Your Ads Here

नक्सलियों ने पुल निर्माण में लगे 3 वाहन जलाए,  मौके पर पुलिस व नक्सलियों मध्य हुयी मुठभेड़


सुकमा । सुकमा जिला मुख्यालय से 45 किमी दूर राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर नक्सलियों ने कल रात पुल निर्माण में संलग्र 3 वाहनों को आग के हवाले कर दिया। साथ ही आने-जाने वाले वाहनों को रोककर उसमें माओवाद जिंदाबाद के नारे लिखकर बैनर लगाए। इस दौरान पुलिस व नक्सलियों के मध्य फायरिंग भी हुयी, जिसमें कुछ नक्सलियों के घायल होने की खबर मिली है। गौरतलब है कि इसी इलाके में नक्सलियों ने विगत 5 मार्च को 3 यात्री बसों को जलाकर खाक कर दिया था।
पुलिस के मुताबिक पेदाकुरती गांव के निकट पुल निर्माण का काम चल रहा है। कल रात यहां 25-30 वर्दीधारी हथियारबंद नक्सलियों ने धावा बोल दिया। नक्सलियों ने कार्यस्थल पर मौजूद श्रमिकों एवं अन्य कर्मचारियों का मोबाईल लूट लिया और उन्हें मारपीट कर भगा दिया। तत्पश्चात मौके पर खड़ी पानी टेंक, एक्जास मशीन एवं ठेकेदार की एक्सयूवी का डीजल टेंक फोडकऱ उन्हें आग की लपटों में झोंक दिया। आगजनी में वाहन जलकर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं।
नक्सलियों द्वारा की गई आगजनी की घटना के बीच खबर आई कि, पुल निर्माण के कार्य में लगे ठेकेदार का अपहरण कर लिया गया है। लेकिन घटना के कुछ देर बाद ही ठेकेदार ने अपने कर्मचारियों को फोन कर सुरक्षित होने की जानकारी दी। दरअसल, ठेकेदार ने नक्सलियों को आते देख अपने साथी की बाइक से पास के सीआरपीएफ कैम्प में जाकर अपनी जान बचाई।
सुकमा एसपी जितेंंद्र शुक्ला ने बताया कि नक्सलियों द्वारा वाहन में आगजनी की खबर मिलते ही कोंटा थाना प्रभारी शरद सिंह को दलबल के साथ रवाना किया गया। इस दौरान इंजरम में भी नक्सलियों द्वारा वाहनों में आगजनी की नाकाम कोशिश की गई, लेकिन मौके पर पुलिस को आते देख नक्सली भाग खड़े हुए। नक्सलियों का पीछा करते कोंटा पुलिस ने उन पर 50-60 राउंड गोलियां चलाई, लेकिन नक्सली जंगल की आड़ लेकर भाग खड़े हुए। उन्होंने कहा कि नक्सलियों को इस फायरिंग में नुकसान हुआ है। 

No comments

Powered by Blogger.